संस्कृति और विरासत

 धार्मिक, ऐतिहासिक और पुरातात्विक महत्व के स्थान आकर्षक प्राकृतिक सुंदरता और जंगली जानवरों के विशाल भंडार से धन्य, धमतरी अपनी पारंपरिक लोक संस्कृति के लिए जाना जाता है, जो इस क्षेत्र की विशिष्टता को जोड़ता है। धमतरी में कई पर्यटक आकर्षण हैं। प्रसिद्ध रविशंकर जल बांध, जिसे गंगरेल बांध भी कहा जाता है,सूर्यास्त के लिए प्रसिद्ध है जो सालाना कई पिकनिक प्रेमियों को आकर्षित करता है। यह छत्तीसगढ़ और अन्य राज्यों, विशेष रूप से मानसून के दौरान सभी स्थानों से पर्यटकों को प्राप्त करता है। सीतानदी  वन्य जीवन अभयारण्य; जो बाघ रिजर्व भी एक लोकप्रिय पर्यटक आकर्षण है। पहाड़ों की सतपुरा रेंज, जिसे सिहावा पहाड़  के नाम से जाना जाता है, एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है। बिलाई माता मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित एक सम्मानित मंदिर है। धमतरी शहर कला और संस्कृति के लिए बहुत महत्व देता है। विंध्यावासिनी और अंगारमोती मंदिर अपनी कला और सांस्कृतिक मान्यताओं के लिए प्रसिद्ध हैं, इसके बाद धमतरी के कई लोग हैं। धमतरी के सुरम्य परिदृश्य के बीच, शानदार वास्तुशिल्प स्मारक कलात्मक क्षमता, इंजीनियरिंग कौशल और धम्मती के लोगों की रचनात्मक कल्पना को दर्शाते हुए उनके प्रभावशाली विशाल संरचनाओं के साथ लंबे समय तक खड़े हैं।

1. सुआ गीत

यह दीपावली के पर्व पर महिलाओं द्वारा गाया जाने वाला गीत है इसमे शिव पार्वती का विवाह मनाया जाता है मिट्टी के गौरा -गौरी बनाकर उसके चारो ओर घुमकर सुवा गीत गाकर सुवा नृत्य करते हैं। कुछ जगहो पर मिट्टी के सुवा (तोते ) बनाकर यह गीत गाया जाता है यह दिपाली के कुछ दिन पूर्व शुरु होकर दिवाली के दिन शिव-पार्वती (गौरा-गौरी) के विवाह के साथ समाप्त होता है यह श्रंगार प्रधान गीत है।

सुआ_नृत्य

सुवा नृत्य


2. कर्मा नृत्य

कर्मा नृत्य धार्मिक महत्त्व रखता है क्योंकि यह बहुत भक्ति-भाव के साथ किया जाता है | “करम” एक पवित्र पेड़ है जिसकी छत्तीसगढ़ राज्य में स्थानीय लोगों द्वारा पूजा की जाती है | इस नृत्य में, महिला एवं पुरुष नर्तकों को एक बड़े सर्कल बना कर करम पेड़ की शाखा एक दुसरे को देते है साथ ही करम पेड़ की प्रशंसा में लगातार गाते हुए नृत्य करते हैं |

कर्मा_नृत्य

कर्मा नृत्य


3. पंथी नृत्य

छत्तीसगढ़ राज्य में बसे सतनामी समुदाय का प्रमुख नृत्य है। इस नृत्य से सम्बन्धित गीतों में मनुष्य जीवन की महत्ता के साथ आध्यात्मिक संदेश भी होता है, जिस पर निर्गुण भक्ति व दर्शन का गहरा प्रभाव है।

पंथी_नृत्य

पंथी नृत्य