इतिहास

धमतरी को “धम्म”++ “तरई” से संक्षिप्त किया गया है तथा छत्तीसगढ़ क्षेत्र के उपजाऊ मैदानों में स्थित है। यह जिला 2042 ‘ एन अक्षांश और 8133′ ई देशांतर के बीच स्थित है। धमतरी जिले को आधिकारिक तौर पर 6 जुलाई 1998 को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर जिले से महासमुंद के साथ विभाजित किया गया। नतीजतन, रायपुर जिले की सीमाएं तीन जिलों में बदल गयी हैं रायपुर, महासमुंद और धमतरी। धमतरी, कुरूद , मगरलोड और नगरी को धमतरी जिले में तहसील और धमतरी, कुरुद, नगरी और मगरलोड  ब्लॉकों के रूप में शामिल किया गया है। जिले का कुल क्षेत्र 2029 वर्ग किलोमीटर है और औसतन समुद्र तल से 305 मीटर ऊपर है। जिला के उत्तर में जिला रायपुर और जिला कांकेर के साथ-साथ दक्षिण में बस्तर, पूर्व में उड़ीसा राज्य के हिस्से में और पश्चिम में जिला दुर्ग और कांकेर से घिरा हुआ है। महानदी इस जिले की प्रमुख नदी है और महानदी को कंकननदी, चित्रोत्पला, नीलोत्पला, मंदवाहिनी, जैरथ आदि नाम से भी जाना जाता है।

महानदी की सहायक नदियाँ सेढुर,पैरी, सोंदुर,जोंन, खारुन,एवं शिवनाथ है | धमतरी जिले की भूमि का उपजाऊ होने का कारण  इन  नदियों की उपस्थिति है | इस क्षेत्र की प्रमुख फसल धान है | मध्य भारत की प्रमुख नदी महानदी सिहावा पर्वत से निकल कर पूर्व दिशा की ओर बंगाल की खाड़ी में बहती है |

धमतरी जिला दो संसदीय क्षेत्र (कांकेर एवं महासमुंद) एवं तीन विधानसभा क्षेत्र (धमतरी, कुरूद एवं सिहावा) में  आता है |राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 30 (पूर्व में एनएच 43) रायपुर – विजयनगरम (आंध्रप्रदेश ) मार्ग धमतरी से होकर गुजरता है | रायपुर की दूरी धमतरी से 78 किमी है |

जिले के पूर्व में सतपुड़ा रेंज स्थित है , इसे सिहावा पहाड़ के रूप में जाना जाता है |पश्चिम में कांकेर जिला,उत्तर में रायपुर ,जो की छत्तीसगढ़ की राजधानी है एवं दक्षिण में ओडिशा राज्य की सीमा है |रविशंकर सागर बांध जो लगभग 57000 हेक्टेयर जमीन सिंचाई करता है और राज्य की राजधानी रायपुर के लिए सुरक्षित पेयजल संसाधन की मुख्य आपूर्ति इकाई के रूप में कार्य करता है और साथ ही भिलाई इस्पात संयंत्र की आपूर्ति भी करता है जो राजधानी से लगभग 11 किलोमीटर दूर है।